कहाँ है, कहाँ है

कहाँ है, कहाँ है,कहाँ है, कहाँ है,
कोहरे का वो एक ठंडा सा एहसास,
वो उसका एक धुँधलापन,
वो उसकी एक चाहत,

समाने को सबकुछ अपने आगोश में,
वो उसका प्यार लेने को बेसब्र,
आगोश में अपने सब कुछ,
कहाँ है, कहाँ है,

कोहरे का वो धीरे धीरे बाहों को फैलाना,
सब कुछ अपने दिल में समाना,
साथ ही छोटी छोटी चमकती हीरे जैसे बूँदों,
का एक शृंगार करना,
कोहरे के आगोश में महसूस करना,
उस प्रेम की गर्माहट को,
ठंडे से अहसास के बीच से,
वो गर्माहट का धीरे से झाँकना,
छू ले जो दिल की गहराइयों को,
वो उसका प्यार, वो उसका एहसास,
कहाँ है, कहाँ है,

उस निर्मोही की तलाश में,
उस निर्मोही के इंतेज़ार में,
बैठे हम सब राह देखते,
जाने कहाँ है वो निष्ठुर,
जाने कहाँ है वो निर्मोही,
लगता जैसे अपनी प्रियतम के साथ,
लगता जैसे अपनी प्रियतम के आगोश में,

भूल बैठा हम सबको,
भूल गया हमे वो,
भूल गया प्यार को,

राह देखते हम सब उस निष्ठुर की,
आयेगा कब वो हमारे आगोश में,
वो उसका धुँधलापन,

वो उसका कोमल अहसास,
वो उसकी चाहत,
वो उसका प्यार,
वो उसका आगोश,
कहाँ है, कहाँ है, कहाँ है.

About Ashutosh Kasera

Technologist at Brain, Writer at Heart and Interpreneur by Choice.

Businesses are Changing with the changing face of Internet. Online Business, Brand Management, SEO, SMM are the new buzzwords reengineering today's dynamic business environment.
Romancing with Words, Acumen for Technology, Passion for SEO, Thinking Out of the Box and developing killer Business Strategies excites me. Creating World of Words thrills me.
I help businesses regarding SEO Consultancy, Copywriting, Brand Building, Reputation Management, Online Business Strategies and Online Marketing Strategies.
Need my help ! Hire my Services at oDesk.
Tagged aagosh, dil, ehsaas, kohare, Nature. Bookmark the permalink.

One Response to कहाँ है, कहाँ है

  1. soch says:

    sach kho gaya hai woh kohra is duniya main kahin.
    Bahut bahut sundar likha hai. Jaise hire ki tarah tim timati roshni . Waise hi aapki rachna hiron ki tarah hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge